रबर बागान rubber plantation

    रबर बागान rubber plantation

    1) रबड़ गर्म और आर्द्र जलवायु में सबसे अच्छा बढ़ता है। यह धूप और 75 से 95 प्रतिशत आर्द्रता वाले क्षेत्रों में सबसे अच्छा बढ़ता है। यह फसल 21 से 35 डिग्री सेल्सियस के बीच तापमान सहन करती है।

    2) अच्छी जल निकासी वाली, अम्लीय, मध्यम ढाल वाली मिट्टी चुनें।

    3) खेती के लिए जी.टी. 1, पी.आर. 107 और आर.आर.आई.एम. 600 किस्मों का चयन किया जाना चाहिए। इस फसल के लिए सामान्यतः ढलवाँ भूमि की आवश्यकता होती है। बुवाई ढलान वाली जमीन में 5 x 5 मीटर की दूरी पर करनी चाहिए। यह दूरी भूमि के आकार के अनुसार 5 x 4.5 मीटर भी रखी जा सकती है। रोपण के लिए 75 x 75 x 75 सेमी। आकार के गड्ढे खोदें। गड्ढों को दो सप्ताह तक खुला रखना चाहिए।

    4) गड्ढे से 25 सेमी ऊपर। गड्ढों को क्षेत्र में 175 ग्राम रॉक फास्फेट, पांच किलो सेमी-केक और 10 से 15 किलो अच्छी तरह से सड़ी हुई गाय का गोबर या खाद डालकर भरा जाना चाहिए।

    5) जून के महीने में पहली बारिश होते ही रोपण कर देना चाहिए। गड्ढे के केंद्र में एक पिक या खोदने वाले के साथ भ्रष्टाचार की जड़ की लंबाई के बराबर एक छेद बनाया जाना चाहिए। ग्राफ्टिंग करते समय इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि चोट न लगे। मिट्टी को ग्राफ्ट की तरफ खींचा जाना चाहिए और मजबूती से बैठना चाहिए।
    6) ग्राफ्ट को धूप, बारिश, जानवरों आदि से बचाएं। एक जोरदार शूट रखें और दूसरे शूट को हटा दें, साथ ही ट्रंक पर शूट भी हटा दें। निराई करके खेत को साफ रखें। पेड़ के आधार को घास, गीली घास आदि से ढक दें। .

    संपर्क -02358 – 280558
    कृषि प्रौद्योगिकी सूचना केंद्र,
    डॉ। बालासाहेब सावंत कोंकण कृषि विश्वविद्यालय, दापोली

    Top